Business

Niti Aayog: School Education Quality Index

Niti Aayog ने स्कूल शिक्षा गुणवत्ता सूचकांक जरी कर दिया हे जिसमे केरल सबसे ऊपर, UP सबसे खराब प्रदर्शन करने वाला राज्य रहा. NITI Aayog ने 2016-17 के आंकड़ों के आधार पर स्कूल शिक्षा गुणवत्ता सूचकांक (SEQI) तैयार किया है।



Niti Aayog स्कूल शिक्षा गुणवत्ता सूचकांक: Niti Aayog ने 'स्कूल शिक्षा गुणवत्ता सूचकांक' (SEQI) रिपोर्ट जारी की। इस सूचकांक में, 20 राज्यों की स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता का आकलन किया गया हे और उसे रेंकिंग प्रदान की गई हे। इस रेंकिंग में केरल पहले स्थान पर है, राजस्थान दूसरे जबकि कर्नाटक तीसरे स्थान पर है।

NITI Aayog ने 2016-17 के आंकड़ों के आधार पर इस सूचकांक को जरी किया है। सूचकांक छात्रों की सीखने की क्षमता को बढ़ाने के लिए स्कूलों के प्रयासों पर जोर देता है। पंजाब और जम्मू कश्मीर सूची में 18 वें और 19 वें स्थान पर हैं।
राज्यों / संघशासित प्रदेशों सर्वश्रेष्ठ 3 राज्य
बड़े राज्य 1. केरल

2. राजस्थान

3. कर्नाटक
छोटे राज्य 1. मणिपुर

2. त्रिपुरा

3. गोवा
केंद्र शासित प्रदेश 1. चंडीगढ़

2. दादरा और नगर हवेली

3. दिल्ली

महत्वपूर्ण बिंदु

  1. सूची को तीन भागों में वर्गीकृत किया गया है - बड़े राज्य, छोटे राज्य और केंद्र शासित प्रदेश।
  2. शीर्ष 3 राज्य केरल, राजस्थान और कर्नाटक हैं। और, शीर्ष 3 निचले राज्य पंजाब, जम्मू और कश्मीर और उत्तर प्रदेश हैं।
  3. जिन छोटे राज्यों को अलग से स्थान दिया गया है, उनमें आठ राज्य शामिल हैं - मणिपुर, त्रिपुरा, गोवा, मिजोरम, नागालैंड, सिक्किम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश।
  4. उत्तर प्रदेश देश के सबसे बड़े राज्यों में से एक है, लेकिन शिक्षा के क्षेत्र में इसका प्रदर्शन दुर्भाग्यपूर्ण है।

रैंकिंग के साथ 20 राज्यों के नाम

केरल (1), राजस्थान (2), कर्नाटक (3), आंध्र प्रदेश (4), गुजरात (5), असम (6), महाराष्ट्र (7), तमिलनाडु (8), हिमाचल प्रदेश (9), उत्तराखंड ( 10), हरियाणा (11), उड़ीसा (12), छत्तीसगढ़ (13), तेलंगाना (14), मध्य प्रदेश (15), झारखंड (16), बिहार (17), पंजाब (18), जम्मू कश्मीर (19) और उत्तर प्रदेश (20)।

SEQI के उद्देश्य

SEQI का लक्ष्य नीतिगत सुधारों को चलाना है जो स्कूल शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाएगा। सूचकांक सीखने के स्तर, पहुंच, इक्विटी, बुनियादी ढांचे और शासन प्रक्रियाओं में सुधार करके शिक्षा के परिणामों को बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करना चाहता है। सूचकांक यह मानता है कि स्कूली शिक्षा समवर्ती सूची में एक विषय है और लागत प्रभावी तरीके से परिणामों में सुधार के लिए राज्य-स्तरीय नेतृत्व महत्वपूर्ण है। सूचकांक राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में स्कूल शिक्षा गुणवत्ता की स्थिति की नियमित और पारदर्शी समीक्षा के रूप में काम करेगा।